whatsapp new privacy policy



इंस्टैंट मैसेजिंग एप व्हाट्सएप नए डेटा प्राइवेसी (privacy policy) नियम ला रहा है। इसके बाद से दुनियाभर में व्हाट्सएप को कड़ी आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा है। नए अपडेट के मुताबिक, व्हाट्सएप यूजर डेटा को फेसबुक की अन्य कंपनियों के साथ शेयर करेगा। अपडेट में कहा गया कि व्हाट्सएप की सर्विस जारी रखने के लिये यूजर्स को 8 फरवरी, 2021 तक नई डेटा शेयरिंग पॉलिसी को मानना ही होगा या वे एप्प को अनइंस्टॉल कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि क्या है व्हाट्सएप की नई पॉलिसी और आपके पास क्या विकल्प मौजूद हैं। 

क्या है नए व्हाट्सएप अपडेट में?

नए अपडेट में लिखा है, 'व्हाट्सएप अपनी शर्तों और प्राइवेसी पॉलिसी (privacy policy) को अपडेट कर रहा है। मुख्य अपडेट में व्हाट्सएप की सर्विस, डेटा को प्रोसेस करने, फेसबुक की अन्य सर्विस के व्हाट्सएप चैट को स्टोर व मैनेज करने और व्हाट्सएप फेसबुक के साथ मिलकर किस प्रकार फेसबुक कंपनी के प्रोडक्ट्स के बीच इंटीग्रेशन करेगा, इस बारे में ज्यादा जानकारी दी गई है।' इसमें आगे लिखा है, 'AGREE पर टैप करके आप 8 फरवरी 2021 से लागू होने वाली नई शर्तों और प्राइवेसी पॉलिसी को स्वीकार कर रहे हैं। अगर आप अपना अकाउंट डिलीट करना चाहते हैं या ज्यादा जानकारी चाहते हैं तो Help Center पर जा सकते हैं।'

----------------------------------------------

Must Read

1) इचलकरंजीच्या दौरावर दोन गवे

2) पदवी प्रमाणपत्रासाठी १२ फेब्रुवारीपर्यंत अर्ज करा

3) मनसेचे बाळा नांदगावकर 'ठाकरे सरकार'वर संतापले

----------------------------------------------

क्या है इस नई पॉलिसी का मतलब?

नई पॉलिसी (privacy policy) का मतलब है कि व्हाट्सएप के पास आपका जितना भी डेटा है, वह अब फेसबुक की दूसरी कंपनियों के साथ भी शेयर किया जाएगा। इस डेटा में लोकेशन की जानकारी, IP एड्रेस, टाइम जोन, फोन मॉडल, ऑपरेटिंग सिस्टम, बैटरी लेवल, सिग्नल स्ट्रेन्थ, ब्राउजर, मोबाइल नेटवर्क, ISP, भाषा, टाइम जोन और IMEI नंबर शामिल हैं। इतना ही नहीं, आप किस तरह मैसेज या कॉल करते हैं, किन ग्रुप्स में जुड़े हैं, आपका स्टेटस, प्रोफाइल फोटो, और लास्ट सीन तक शेयर किया जाएगा। 

कंपनी का कहना है कि इस डेटा का उपयोग विश्लेषण संबंधी उद्देश्य के लिए किया जाएगा। इसका मतलब है कि फेसबुक (facebook company) के पास पहले से ज्यादा डेटा का एक्सेस होगा और फेसबुक की अन्य कंपनियां इसका इस्तेमाल आप तक अपने प्रोडक्ट की पहुंच के लिए करेंगी। ऐसे दौर में जब डेटा एक उपयोगी चीज बन गया है, इसे शेयर करके फेसबुक और उसकी कंपनियां बड़ा लाभ कमाना चाहती हैं। 

क्या है नए व्हाट्सएप अपडेट में?

नए अपडेट में लिखा है, 'व्हाट्सएप अपनी शर्तों और प्राइवेसी पॉलिसी को अपडेट कर रहा है। मुख्य अपडेट में व्हाट्सएप की सर्विस, डेटा को प्रोसेस करने, फेसबुक की अन्य सर्विस के व्हाट्सएप चैट को स्टोर व मैनेज करने और व्हाट्सएप फेसबुक के साथ मिलकर किस प्रकार फेसबुक कंपनी के प्रोडक्ट्स के बीच इंटीग्रेशन करेगा, इस बारे में ज्यादा जानकारी दी गई है।' इसमें आगे लिखा है, 'AGREE पर टैप करके आप 8 फरवरी 2021 से लागू होने वाली नई शर्तों और प्राइवेसी पॉलिसी को स्वीकार कर रहे हैं। अगर आप अपना अकाउंट डिलीट करना चाहते हैं या ज्यादा जानकारी चाहते हैं तो Help Center पर जा सकते हैं।'

क्या है इस नई पॉलिसी का मतलब?

नई पॉलिसी का मतलब है कि व्हाट्सएप  (whatsapp) के पास आपका जितना भी डेटा है, वह अब फेसबुक की दूसरी कंपनियों के साथ भी शेयर किया जाएगा। इस डेटा में लोकेशन की जानकारी, IP एड्रेस, टाइम जोन, फोन मॉडल, ऑपरेटिंग सिस्टम, बैटरी लेवल, सिग्नल स्ट्रेन्थ, ब्राउजर, मोबाइल नेटवर्क, ISP, भाषा, टाइम जोन और IMEI नंबर शामिल हैं। इतना ही नहीं, आप किस तरह मैसेज या कॉल करते हैं, किन ग्रुप्स में जुड़े हैं, आपका स्टेटस, प्रोफाइल फोटो, और लास्ट सीन तक शेयर किया जाएगा। 

कंपनी का कहना है कि इस डेटा का उपयोग विश्लेषण संबंधी उद्देश्य के लिए किया जाएगा। इसका मतलब है कि फेसबुक के पास पहले से ज्यादा डेटा का एक्सेस होगा और फेसबुक की अन्य कंपनियां इसका इस्तेमाल आप तक अपने प्रोडक्ट की पहुंच के लिए करेंगी। ऐसे दौर में जब डेटा एक उपयोगी चीज बन गया है, इसे शेयर करके फेसबुक और उसकी कंपनियां बड़ा लाभ कमाना चाहती हैं। 

क्या व्हाट्सएप डिलीट करने से बनेगी बात?

अगर आप अपना डेटा शेयर नहीं करना चाहते तो फोन से ऐप अनइंस्टॉल करने का विकल्प चुन सकते हैं। हालांकि, इसका यह मतलब बिलकुल नहीं है कि आपका जितना भी डेटा स्टोर किया गया है वह तुरंत डिलीट हो जाएगा। व्हाट्सएप पर यह लंबे समय तक स्टोर रखा रह सकता है। व्हाट्सएप के मुताबिक, 'जब भी अकाउंट डिलीट करें तो ध्यान रखें कि आपके द्वारा बनाए गए ग्रुप्स की जानकारी या अन्य लोगों के साथ की गई आपकी चैट जैसी जानकारी को प्रभावित नहीं करता है।'

क्या है आखिरी रास्ता

बता दें कि व्हाट्सएप की नई प्राइवेसी पॉलिसी 8000 शब्दों से भी ज्यादा लंबी है और इसमें इस प्रकार के कानूनी शब्दों का इस्तेमाल किया गया है कि एक आम आदमी को आसानी से समझ में ना आए। ऐसे में अगर आप व्हाट्सएप के नए नियमों को स्वीकार नहीं करना चाहते तो बेहतर होगा कि आप Signal messenger जैसे किसी अन्य एप्प का इस्तेमाल कर लें।