money


पैसों (money) का सही से इस्तेमाल करना है तो टैक्स बचाने वाले एफडी आपके अच्छे दोस्त साबित हो सकते हैं। इनमें निवेश कर के आपको तगड़ा रिटर्न तो मिलेगा ही, आपके पैसों पर लगने वाले टैक्स से आपको राहत मिलेगी। इसकी सबसे अच्छी बात ये है कि निवेश पर किसी तरह का कोई जोखिम नहीं होगा। रिटायरमेंट के बाद भी आपके लिए ये एफडी रेगुलर इनकम का स्रोत साबित होंगी। आइए जानते हैं कौन से बैंक दे रहे हैं एफडी (FD)पर सबसे अच्छा रिटर्न (interest)और कितना।

इस लिस्ट में सबसे ऊपर है डीसीबी बैंक, जो 6.95 फीसदी ब्याज दे रहा है। वहीं दूसरे नंबर पर इंडसइंड बैंक, जो अपने ग्राहकों को 6.75 फीसदी ब्याज ऑफर कर रहा है। इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर है एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक जो 6.50 फीसदी ब्याज दे रहा है। आरबीएल बैंक की तरफ से एफडी पर 6.50 फीसदी की दर से ब्याज देने की पेशकश की जा रही है। वहीं इस लिस्ट में आखिरी है सिटी यूनियन बैंक, जो 6 फीसदी की दर से ब्याज (interest)दे रहा है।

Must Read

1) आता सोने खरेदी करताना व्हा स्मार्ट! नेमके कोणते अतिरिक्त दर लागतात घ्या जाणून

2) कारागृहाबाहेर नवनीत राणा यांचे धरणे आंदोलन

3) मंदिर खुली होणार असली तरी 'हे' नियम पाळावे लागणार!

4) बॉलिवूडच्या बाजीराव-मस्तानीच्या लग्नाला 2 वर्ष पूर्ण; पोस्ट शेअर

5) किरीट सोमय्या यांना मदत करायला तयार आहोत - आज्ञा नाईक

6) PHOTOS: रिंकू राजगुरूच्या नव्या फोटोंनी चाहत्यांना पाडली भुरळ

वरिष्ठ नागरिकों को भी डीसीबी बैंक में निवेश कर के शानदार रिटर्न पाने के साथ-साथ टैक्स बचाने का मौका मिल रहा है, जो 7.45 फीसदी की दर से ब्याज दे रहा है। इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर इंडसइंड बैंक, जो 7.25 फीसदी की दर से ब्याज दे रहा है। वहीं एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक में 7 फीसदी की दर से ब्याज दिया जा रहा है। अगर सीनियर सिटिजन चाहें तो आरबीएल बैंक में निवेश कर के 7 फीसदी की दर से ब्याज पा सकते हैं। बंधन बैंक में निवेश पर भी सीनियर सिटिजन को 6.50 फीसदी की दर से ब्याज दिया जा रहा है।

एक बात ध्यान रखने की है कि ये एफडी 1,2 या 3 साल की नहीं हो सकती हैं, क्योंकि टैक्स सेविंग एफडी कम से कम 5 साल की होती हैं। यानी आप 5 साल से पहले एफडी नहीं तोड़ सकते हैं वरना बैंक की तरफ से पेनाल्टी तो लगेगी ही, साथ ही आपके टैक्स छूट भी नहीं मिलेगी। साथ ही आपको ये भी ध्यान रखना होगा कि टैक्स सेविंग एफडी पर आपको अन्य एफडी (FD) की तरह लोन नहीं मिल सकता है। आयकर अधिनियम के सेक्शन 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक की आय पर टैक्स से छूट पाई जा सकती है।