Main Featured

रिलायंस 8 साल बाद फिर से दुनिया की टॉप 100 कंपनी में शामिल



Reliance Industry


मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की स्वामित्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) ने एक और बड़ा कारनामा कर दिखाया है। फॉर्च्यून मैग्जिन द्वारा मंगलवार को जारी 2020 फॉर्च्यून ग्लोबल 500 लिस्ट (2020 Fortune Global 500 list) में 10 स्थानों की छलांग लगाकर रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industry) दुनिया की टॉप 100 कंपनियों में शामिल हो गई है। तेल, पेट्रोकेमिकल, रिटेल और टेलीकॉम जैसे क्षेत्रों में काम करने वाली RIL को फॉर्च्यून की वैश्विक कंपनियों की सूची में 96वां स्थान मिला है। वित्त वर्ष 2019-20 में RIL का रेवेन्यू (revenue) 86.2 बिलियन डॉलर रहा।

Must Read


रिलायंस (Reliance Ltd) ने दोबारा यह उपलब्धि 8 साल के बाद पाई है। इससे पहले 2012 में RIL इस लिस्ट में 99वें स्थान पर रही थी, लेकिन बाद के वर्षों में फिसलते हुए 2016 में 215वें स्थान पर पहुंच गई थी। फॉर्च्यून की शीर्ष 100 की सूची में शामिल होने वाली RIL इकलौती भारतीय कंपनी है। फॉर्च्यून ग्लोबल 500 में 34 अंक फिसलकर सार्वजनिक क्षेत्र की इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) 151वें स्थान पर पहुंच गई है। IOC का रेवेन्यू 69.2 बिलियन डॉलर आंका गया। वहीं 57 बिलियन डॉलर के राजस्व के साथ तेल एवं प्राकृतिक गैर निगम (ONGC) की रैंकिंग पिछले साल के मुकाबले 30 स्थान खिसकर 190वीं रही। देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की रैकिंग में 15 स्थानों का सुधार हुआ और यह 221वें स्थान पर है। SBI का राजस्व इस वित्त वर्ष के दौरान 51 बिलियन डॉलर रहा। इस सूची में शामिल होने वाली अन्य भारतीय कंपनियों में भारत पेट्रोलियम 309वीं, टाटा मोटर्स 337वीं और राजेश एक्पोर्ट्स 462वीं रैंक पर रही। फॉर्च्यून ग्लोबल 500 की लिस्ट में कंपनियों को उनके पिछले वित्त वर्ष की कुल आय के आधार पर शामिल किया जाता है।


वालमार्ट दुनिया की नंबर 1 कंपनी


फॉर्च्यून ग्लोबल 500 में इस साल शीर्ष पर वालमार्ट है। वालमार्ट की रेवेन्यू वित्त वर्ष 2019-20 में 524 बिलियन डॉलर रही। इसके बाद तीन चीनी कंपनियों साइनोपेक समूह, स्टेट ग्रिड और चाइना नेशनल पेट्रोलियम का स्थान है। इस वित्त वर्ष में साइनोपेक समूह ने जहां 407 बिलियन डॉलर कमाए, वहीं स्टेट ग्रिड का राजस्व 384 बिलियन डॉलर रहा। चाइना नेशनल पेट्रोलियम ने इस साल 379 बिलियन डॉलर का राजस्व इकट्ठा किया। इस सूची में पांचवे स्थान पर रॉयल डच शेल और छठे पर सऊदी अरब की प्रमुख तेल कंपनी अरामको है। इस लिस्ट में वालमार्ट, साइनोपेक और चाइना नेशनल पेट्रोलियम के स्थान में कोई बदलाव नहीं हुआ। जबकि स्टेट ग्रिड ने दो स्थान की बढ़त हासिल की और शेल दो स्थान नीचे खिसक गई।