Main Featured

103 दिन में 8988% बढ़े ये शेयर



ruchi soya shares updates


पिछले साल रुचि सोया इंडस्ट्रीज दिवालिया हो गई, जिसके बाद बाबा रामदेव के पतंजलि ग्रुप ने उसका अधिग्रहण कर लिया। आज कंपनी ने इतनी तरक्की कर ली है कि वह मार्केट कैप के मामले में दलाल स्ट्रीट की टॉप-60 कंपनियों में शुमार हो चुकी है। 27 जनवरी को रुचि सोया इंडस्ट्रीज (
ruchi soya shares updates) दोबारा से शेयर बाजार में लिस्ट हुई थी, जिसके बाद उसके शेयर लगातार चढ़ते ही चले गए और रिकॉर्ड बना दिया। 

रूचि सोया में 103 दिनों में 8988 फीसदी तक की ग्रोथ हो गई। शुक्रवार शाम को रुचि सोया के शेयर की कीमत 1507 रुपए थी। जो कंपनी महज 500 करोड़ की थी, 103 सेशन के बाद उसकी मार्केट वैल्यू 44,600 करोड़ रुपये की हो गई।



हे वाचा-

अगर बात सिर्फ मार्केट कैप की करें तो रूचि सोया इस समय ल्यूपिन, टोरेंट फार्मा, टाटा स्टील, अंबुजा सीमेंट, एचपीसीएल, ग्रासिम, पंजाब नेशनल बैंक, हिंडैल्को, यूपीएल, कोलगेट-पाल्मोलिव और हैवेल्स इंडिया से भी बड़ी हो चुकी है।



भले ही रुचि सोया के शेयर दिन दूनी और रात चौगुनी रफ्तार से बढ़ते रहे, लेकिन विशेषज्ञों के मन में एक डर था और वह सावधानी से आगे बढ़ रहे थे। विशेषज्ञों का तो ये भी मानना था कि सेबी को इस मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए और इस बात की जांच करनी चाहिए कि आखिर इसके शेयर में इतनी तेजी की वजह क्या है। साथ ही ये भी पूछना चाहिए कि कब तक वह 25 फीसदी के न्यूनतम पब्लिक शेयर होल्डिंग के नियम को पूरा करेंगे।

लगातार बढ़ने के बाद आखिरकार सोमवार को रुचि सोया 
(ruchi soya shares updatesके शेयर 5 फीसदी तक गिरे। ये सिलसिला अभी रुका नहीं है, क्योंकि मंगलवार को भी रुचि सोया के शेयर्स में करीब 5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। इस गिरावट की वजह रही रुचि सोया को चौथी तिमाही में हुआ 41.25 करोड़ रुपयों का नुकसान।



बच कर रहें इस शेयर से

विशेषज्ञ भी इसकी जांच चाहते हैं तो इन शेयरों को ना खरीदने में ही भलाई है, भले ही वह कितना भी रिटर्न क्यों ना दें। वैसे भी, अब इन शेयरों में गिरावट का दौर चल पड़ा है। सोमवार और मंगलवार दोनों ही दिन 5 फीसदी का लोअर सर्किट लगा है। इन शेयरों से बचकर रहने की सबसे बड़ी वजह ये है कि कंपनी में लिक्विडिटी की कमी है। कंपनी के 99.03 फीसदी शेयर पतंजलि ग्रुप की 15 इकाइयों के पास हैं।

Post a Comment

0 Comments